UP Election Pre Poll Survey: BJP touching majority: If SP fight continue then 2/3rd : Cycle broken: Mayavee crunched

Current Affairs

UP Election, Pre Poll Survey, BJP  touching majority, SP fight continue,Cycle broken: Mayavee crunched, India Today Axis Opinion poll, Note bandi, SP

यूपी चुनाव: सर्वे में BJP बहुमत के करीब-कलह जारी रही तो दो तिहाई सीटें: सायकल टूटेगी : हाथी मायावियों को कुचलेगा

उत्‍तर प्रदेश दुनिया का दसवां सबसे बड़ा प्रदेश में  शासन संभव। सर्वे बता रहा है नोट बंदी के कारण BJP के पक्ष में हवा बह रही है है इससे कमल खिलकर रहेगा।यूपी में बीजेपी का ‘वनवास’ खत्म होता दिख रहा है.

इंडिया टुडे समूह के लिए किए गए एक्सिस माई इंडिया का ताजा ओपिनियन पोल तो कुछ इस ओर ही इशारा कर रहा है. सर्वे में शामिल लोगों में से 76 फीसदी ने नोटबंदी के मोदी सरकार के फैसले का समर्थन किया. हालांकि आम लोगों को इससे हुई परेशानियों के सवाल ये लोग बटे हुए दिखे. 58 फीसदी का कहना था कि नोटबंदी से उन्हें पेरशानी झेलनी पड़ी, वहीं फीसदी लोगों ने बताया कि उन्हें इससे कोई दिक्कत नहीं हुई.

सपा सरकार के राज में यदि कानून-व्‍यवस्‍था पर सवाल उठते हैं। आगामी चुनाव के लिए BJP ने मुस्लिम महिलाओं को आकर्षित करने के लिए ट्रिपल तलाक़ के विरुद्ध कोर्ट के निर्णय का हवाल देते हुए मुहीम छेड़ है। सभी यू पी वालों को अपनी ओर खींचने आकर्षित करने के लिए परिवर्तन रैली द्वारा आक्रामक रणनी‍ति बनाई है।

PHOTO lucknow rally ki

यूपी की सभी सीटों के लिए अपने उम्‍मीदवार घोषित करते हुए मायावती ने 97 टिकट मुसलमानों को दिए हैं. अन्य सीन पर भी जातिगत आधार पर उम्मीदवार खड़े कर सपना संजोई है कि लोग विकास पर नहीं धर्म – जाती पर बटन दबाएंगे पर अब ऐसा संभव नहीं है।  लोग तरक्की करना चाहते हैं। खिलते कमल का स्वागत मायावती के विश्वासपात्र आर के चौधरी , मौर्य तथा अन्य हाथी से उतारकर कर चुके हैं।

4-haathi

Elephant riders Maurya+Chaudhary landed on land: Mayawati in red …

Video for elephant maya newsanalysisindia▶ 1:0 https://www.youtube.com/watch?v=x6s89oq9ScY Jun 30, 2016 – Uploaded by Premendra Agrawal After Swamy Prasad Maurya, now RK Chaudhary quits Maya BSP, alleges election tickets auctioned …

एक्सिस माई इंडिया के  पिछले ओपिनियन पोल में बीजेपी को मिलने वाली अनुमानित सीटों से करीब 30 ज्यादा है. यूपी की कुल 403 सीटों में से बीजेपी को 206-216 सीटों के साथ स्पष्ट बहुमत मिलने का अनुमान है.

उत्तर प्रदेश में विधानसभा के लिए चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है. यूपी में 11 फरवरी से 8 मार्च के बीच सात चरणों में मतदान होना है. इंडिया टुडे और एक्सिस ने मिलकर यूपी में अब तक का सबसे बड़ा चुनावी सर्वे किया है जिसके मुताबिक मुख्यमंत्री के तौर पर मतदाताओं की पहली पसंद अखिलेश यादव ही हैं. लेकिन बीजेपी राज्य के मतदाताओं की सबसे पंसदीदा पार्टी साबित हुई है. सर्वे में कई पैमानों पर बीएसपी, सपा को पछाड़ते हुए दूसरे नंबर पर आती दिख रही है. वहीं कांग्रेस पूरी तरह मैदान से बाहर नजर आ रही है. आपको बता दें कि 12 से 24 दिसंबर के बीच 8,480 लोगों की राय इस सर्वे में जानी गई है.

एक नजर में देखते हैं कि यूपी का ओपिनियन पोल क्यों जरूरी है.
भारत का सबसे बड़ा राज्य, जहां से 80 सांसद आते हैं.
– अगर बीजेपी यूपी में जीती, तो 2014 का लोकसभा चुनाव जीतने के बाद ये उसकी सबसे बड़ी जीत होगी.
– मोदी लहर का सबसे बड़ी परीक्षा यूपी में ही होनी है. सर्जिकल स्ट्राइक और नोटबंदी जैसे फैसलों की वजह से नतीजे और भी रोचक हो गए हैं.
– ये चुनाव मायावती और उनकी पार्टी बीएसपी के लिए ‘करो या मरो’ वाला साबित होने वाला है.
– समाजवादी पार्टी की आंतरिक कलह का उसके भविष्य पर क्या असर पड़ेगा, ये भी इस चुनाव में साफ हो जाएगा.
– इस चुनाव अगर अखिलेश जीतते हैं, तो वो एक सशक्त राष्ट्रीय नेता के तौर पर स्थापित हो जाएंगे.
– पार्टी में नई जान फूंकने और राहुल गांधी की छवि मजबूत करने के लिए कांग्रेस के लिए ये चुनाव बहुत अहम है.

मुख्यमंत्री के तौर पर कौन है पहली पसंद
यूपी में बीजेपी आगे रहती दिख रही हो लेकिन बतौर मुख्यमंत्री लोगों की पहली पसंद अखिलेश यादव ही हैं. पार्टी की अंदरूनी कलह से जूझ रहे अखिलेश के लिए ये बड़ा चुनाव है. बीजेपी ने मैदान में कोई सीएम उम्मीदवार नहीं उतारा है. ऐसे में अखिलेश के पास इसका फायदा उठाने का पूरा मौका है. सीएम की पसंद में दूसरे नंबर पर मायावती हैं.
अखिलेश यादव- 33%
मायावती- 25%
राजनाथ सिंह- 20%
योगी आदित्यनाथ- 18%
प्रियंका गांधी-1%
मुलायम सिंह- 1%
वरुण गांधी- 1%

क्षेत्र के हिसाब से कौन-किसके साथ

क्षेत्र के हिसाब वोट%
पश्चिमी यूपी (136 सीट)
बीजेपी 34%
बीएसपी 27%
सपा 25%
कांग्रेस 5%
अन्य 9%

मध्य यूपी (81 सीट)
बीजेपी 36%
बीएसपी 23%
सपा 24%
कांग्रेस 8%
अन्य 9%

पूर्वी यूपी (167 सीट)
बीजेपी 32%
बीएसपी 28%
सपा 27%
कांग्रेस 5%
अन्य 9%

बुंदेलखंड (19 सीट)
बीजेपी 38%
बीएसपी 28%
सपा 19%
कांग्रेस 5%
अन्य 10%

जाति/धर्म के आधार पर किसे मिलेंगे कितने वोट

सवर्ण
बीजेपी 61%
बीएसपी 10%
सपा 9%
कांग्रेस 8%
अन्य 12%

मुस्लिम
बीजेपी 3%
बीएसपी 14%
सपा 71%
कांग्रेस 6%
अन्य 6%

ओबीसी
बीजेपी 53%
बीएसपी 15%
सपा 13%
कांग्रेस 7%
अन्य 12%

यादव
बीजेपी 14%
बीएसपी 4%
सपा 72%
कांग्रेस 3%
अन्य 7%

एससी/एसटी
बीजेपी 15%
बीएसपी 68%
सपा 7%
कांग्रेस 3%
अन्य 7%

किस आय का मतदाता कौन सी पार्टी के साथ

आय के आधार पर वोट % निम्न आय (10 हजार तक)
बीजेपी 33%
बीएसपी 27%
सपा 25%
कांग्रेस 6%
अन्य 9%

निम्न/मध्यम आय (10-20 हजार तक)
बीजेपी 33%
बीएसपी 27%
सपा 25%
कांग्रेस 6%
अन्य 9%

उच्च आय (20 हजार ज्यादा)
बीजेपी 41%
बीएसपी 18%
सपा 26%
कांग्रेस 5%
अन्य 10%

किस व्यवसाय का मतदाता कौन सी पार्टी के साथ

व्यवसाय के आधार पर वोट%
मजदूर
वर्ग
बीजेपी 26%
बीएसपी 37%
सपा 24%
कांगेस 5%
अन्य 8%

किसान
बीजेपी 41%
बीएसपी 18%
सपा 25%
कांग्रेस 7%
अन्य 9%

नौकरीपेशा (डॉक्टर, वकील आदि)
बीजेपी 39%
बीएसपी 17%
सपा 28%
कांग्रेस 7%
अन्य 9%

छोटे व्यापारी
बीजेपी 40%
बीएसपी 18%
सपा 27%
कांग्रेस 6%
अन्य 9%

गांव और शहरों के अंतर का किसे मिलेगा फायदा

भौगोलिक आधार पर वोट %

ग्रामीण
बीजेपी 33%
बीएसपी 27%
सपा 25%
कांग्रेस 6%
अन्य 9%

शहरी
बीजेपी 35%
बीएसपी 24%
सपा 27%
कांग्रेस 5%
अन्य 9%

यूपी चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा क्या है

क्या बीजेपी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार घोषित करना चाहिए

2014 का लोकसभा चुनाव जीतने के बाद बीजेपी जितने राज्यों में चुनाव लड़ी है, दिल्ली छोड़कर उसने किसी राज्य में अपना सीएम उम्मीदवार घोषित नहीं किया है. इस साल भी पांच राज्यों में चुनाव होने जा रहे हैं, लेकिन इस बार भी बीजेपी उसी पुरानी रणनीति पर चुनाव लड़ने जा रही है. बीजेपी नेता हर बार विकास के नाम पर चुनाव लड़ने की बात दोहराते आए हैं.
हां 69%
ना 24%
पता नहीं 7%

कैसा रहा नोटबंदी का फैसला
अच्छा 76%
बुरा 23%
पता नहीं 1%

नोटबंदी से परेशानी है
हां 58%
नहीं 42%

नोटबंदी से क्या होगा
काले धन और जाली नोट पर लगाम 51%
जनता को दिक्कत 27%
गरीब को फायदा 18%
कोई असर नहीं 3%
सिर्फ एक छोटा सा फैसला 1%

 

1_010417104545.jpg

2_010417104654.jpg

———————————-

Please feel free to read my books:

Silent Assassins of Lal Bahadur Shastri, Jan 11-1966

Accursed & Jihadi Neighbour

राष्ट्रीय एकता

डी एल एफ – वाड्रा : भ्रष्ट तंत्र 

SUPREME COURT ON HINDU HINDUTVA AND HINDUISM