Maya ke bhai 2000 cr ke Anand ki hogi giraftari:Rahul-Mamta Gandhi statue par?

Maya ke bhai anand, 200 cr ke Aanand, Rahul-Mamta, Gandhi statue, आयकर, ED, Finance Minisstry

3-maya-anand

Maya ke bhai 2000 cr ke Anand ki hogi giraftari:Rahul-Mamta Gandhi statue par

माया के भाई 2००० करोड़ के  आनंद  कुमार की होगी गिरफ़्तारी: राहुल ममता लालू धरना देंगे ?

आयकर विभाग ने उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती और उनके भाई आनंद कुमार के खिलाफ आयकर न देने को लेकर मामला दर्ज कर लिया है .

नोटबंदी के बाद मायावती के भाई के खाते में 1.43 करोड़ रुपये जमा ; बेनामी सम्पति का खुलासा; उत्‍तर प्रदेश विधानसभा के चुनावों से पहले मायावती के लिए यह झटका है. गौरतलब है कि मायावती पर भी आय से अधिक संपत्ति का मामला पहले से ही सुप्रीम कोर्ट में लंबित है.

मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ 5 याचिकाओं को एक्स और वाई श्रेणी में रखा गया है। सीबीडीटी की आधिकारिक प्रवक्ता मीनाक्षी जे. गोस्वामी ने बताया कि व्यक्तिगत मामलों में किसी केस की डीटेल शेयर करना विभाग की मीडिया पॉलिसी के खिलाफ है। लखनऊ के जांच विभाग में बकाया कुछ याचिकाओं को एक्स श्रेणी (जिसमें बड़ी धांधली की गई है) में रखा गया, जबकि कम गंभीर शिकायतों को वाई और जेड श्रेणी में रखा गया था। मायावती के फ्रेंड्स और फैमिली के खिलाफ एक याचिका को एक्स श्रेणी में रखा गया था।

बताया जा रहा है कि वित्त मंत्रालय Finance Minisstry से ईडी को निर्देश हुए हैं की वो 2165.08 करोड़ रूपए के हस्तांतरण को लेकर आनंद कुमार पर कार्रवाई करे. आनंद कुमार की कम्पनी DLA INFRASTRUCTURE PVT LTD और उससे जुडी कम्पनियों में जनवरी 2011 और सितम्बर 2014 के बीच 2149.5करोड़ रूपए निकाले गए और 2165.08 करोड़ रूपए जमा किये गए.

आनंद न सिर्फ M/s DLA Infrastructures (P) ltd के डायरेक्टर थे बल्कि HARMONY REAL DEVELOPERS PRIVATE LIMITED , OM PROJECTS PRIVATE LIMITED और TAMANNA DEVELOPERS PRIVATE LIMITED जैसी कम्पनियों के भी डायरेक्टर हैं. ये सभी कम्पनियां मायावती के 2007 में यूपी के मुख्यमंत्री बनने के बाद खोली गई हैं. ज्यादातर कम्पनियों में आनंद कुमार के साथ उनकी पत्नी विचित्र लता भी डायरेक्टर है.

आनंद कुमार के खातों में नोटबंदी के बाद एक करोड़ 43 लाख रुपए जमा हुए हैं.

  • 9 दिसंबर को 6 लाख 78 हजार रुपये,
  • 16 दिसंबर को 2 लाख 20 हजार रुपये,
  • 16 दिसंबर को ही 10 लाख रुपये नगद जमा कराए गए,

यानि कुल कैश करीब 19 लाख रुपए जमा कराए गए, जबकि करीब सवा करोड रुपये की रकम ऑनलाइन तरीके RTGS के जरिए अलग अलग कंपनियो से खाते में ट्रांसफर की गई.

अब जांच एजेसियां ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि ये कौन सी कंपनियां है और ये पैसा किस लिए आनंद कुमार के खाते में आय़ा था. इन्हीं आनंद कुमार पर बिल्डरों के साथ सांठगांठ करके बेनामी संपत्ति रखने का आरोप लगा है. आय़कर विभाग के सूत्रों के मुताबिक, पांच शिकायतें मिलीं थी, इनमें कहा गया कि आनंद कुमार के पास बडे पैमाने पर बेनामी संपत्ति है औऱ उसका कुछ हिस्सा कुछ बिल्डरों के पास भी मौजूद है. आयकर विभाग ने आरंभिक जांच शुरू करते हुए आधा दर्जन बिल्डरों को नोटिस भेजा है.