जहां पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी महज दो लोकसभा सीट ही जीत सकी थी. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने आजतक के प्रोग्राम सीधी बात में दावा किया कि 2019 में बीजेपी पश्चिम बंगाल की कुल 42 में से 22 लोकसभा सीटें जीतेगी. बीजेपी के बंगाल मिशन में ये 5 फैक्टर कारगर साबित हो सकते हैं.

बीजेपी असम और त्रिपुरा की तर्ज पर पश्चिम बंगाल में भी अपनी जड़ें जमाने में लगी है. राज्य में मुस्लिम आबादी करीब 30 फीसदी है. ऐसे में ध्रुवीकरण के जरिए ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ माहौल बनाने की कवायद की जा रही है.

हाल के दिनों में रानीगंज समेत बंगाल के कई इलाकों में साम्प्रादायिक हिंसा की घटनाएं ध्रुवीकरण का माहौल तैयार कर रही है. इन हिंसक घटनाओं पर निशाना साधते हुए केंद्र सरकार में मंत्री बाबुल सुप्रियो ने ममता सरकार को जिहादी सरकार तक बता दिया. इससे पहले मूर्ति विसर्जन को लेकर भी बीजेपी ने ममता सरकार के खिलाफ हल्ला बोला था. पश्चिम बंगाल में ध्रुवीकरण की बिसात बीजेपी के लिए संजीवनी साबित हो सकती है.